कौन लेगा इनकी सुध !

कौन लेगा इनकी सुध ! – मुहाना मंडी की मेहनत-कश महिला मजदूरों की दयनीय दशा

सुबह के 9 बजे, चारों ओर सब्जी और फलों से भरे ट्रक ही ट्रक। आदमी सब्जियों और फलों से भरे बोरों को ट्रक से उतार कर कांटे पर रखते जा रहे थे। सब्जियों और फलों के थोक विक्रेता बोरों को कांटे पर तोल कर खरीददारों को बेच रहे थे। खरीददार थोक विक्रेता के पास आते हैं और सब्जियों से भरा बोरा तुलवाते हैं। तुले हुए बोरे को 4 आदमी उठाकर एक महिला के सिर पर रखवाते। महिला उस बोर को उठा कर चल पड़ती है अपनी मंजिल की ओर………. फिर दूसरा खरीददार आता है, बोरा तुलवाता है और 4 आदमी मिलकर उस बोरे को उठाकर दूसरी महिला के सिर पर रखवा देते हैं वह महिला भी सिर पर बोरा लिए फुर्ती से चल पड़ती है मंजिल की ओर…… और यह सिलसिला चलता रहता है लगातार . . . यह स्थिति है जयपुर की मुहाना मण्डी में बोझा ढोने वाली महिलाओं की।

वो सब्जी से भरे बोरे दिखने में बहुत भारी वजन के लग रहे थे। थोक विक्रेता से पूछने पर पता चला कि इन बोरों का वजन 70 से 80 किलोग्राम है और ये महिलाएं मण्डी में वजन ढोने का काम करती हैं।

IMG00111

पूरी मण्डी में हर जगह महिलाएं अपने सिर पर बोझा उठा कर एक जगह से दूसरी जगह ले जा रही थीं। उन महिलाओं ने बताया कि “मजदूरी का तो कुछ भी तय नहीं है, बोझा उठाने की एवज में हमें एक बोरे के 2 रुपये से लेकर 10 रुपये तक मिल जाते हैं। कभी 5 रुपये तो कभी 10 रुपये प्रति बोरा भी मिल जाते हैं। ”जानकारी के अनुसार मजदूरी का दूरी और वजन से कोई लेना देना नहीं है। 50 किलोग्राम से 100 किलोग्राम तक का वजन एक बार में ढोना पड़ता है। ये महिलाएं सुबह 4 बजे से मण्डी में आती हैं और दोपहर 1 या 2 बजे तक काम करती हैं।

जयपुर की मुहाना मण्डी में लगभग 2000-2500 हजार महिलाएं बोझा ढोने का काम करती हैं। गोनेर, चाकसू, चोमू, गलता गेट, कीरों की ढाणी, झालाना कच्ची बस्ती आदि जयपुर के चारों कोनों से महिलाएं इस काम को करने के लिए मुहाना मण्डी में आती हैं। ये महिलाएं रोज सुबह 4 – 5 बजे 10 से 20 रूपए खर्च करके मण्डी तक आती हैं। सभी महिलाएं खुली मजदूरी करती हैं। एक दिन में 50 से 150 रूपए तक महिला कमा लेती है। 100 मीटर से लेकर 800 मीटर तक के दायरे में महिलाओं को बोझा अपने सर पर उठा कर घूमना पड़ता है। सामान ढोते वक््त यदि महिला से कोई नुकसान हो जाये तो उसकी भरपाई भी महिलाओं से ही की जाती है।

ना घर में सुख, ना काम पर कोई परवाह

बोझा ढोने वाली इन महिलाओं को ना तो घर में सुख मिलता है ना ही काम पर कोई परवाह करता है। अमूमन महिलाएं अपने शराबी पतियों द्वारा प्रताडि़त की जाती हैं। कार्यस्थल पर भी किसी को उन की परवाह नहीं है। यदि काम के दौरान महिला के साथ कोई दुर्घटना घटित हो जाये या उसे चोट लग जाये तो उसका इलाज तक नहीं हो पाता है। इस काम से काफी संख्या में वृद्धा, विधवा, परित्यक्ता व तलाकशुदा महिलाएं जुडी हुई हैं।

मुहाना मण्डी से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित कच्ची बस्ती कीरों की ढाणी में कुल 2 हजार 9 सौ घर हैं। DSC03164इस बस्ती की अधिकतर महिलाएं मुहाना मण्डी में बोझा ढोने का काम करती हैं। इन परिवारों में से कोई तो 17 साल तो कोई 10 साल से इस बस्ती में रह रहा है। पहले इस बस्ती के पुरुष एवं महिलाएं मुहाना मण्डी में ही बेलदारी का काम किया करते थे। मण्डी बनने के बाद महिलाओं ने बेलदारी छोड़ कर बोझा उठाने का काम शुरू कर दिया क्योंकि इस काम में रोज की कमाई हो जाती है जबकि बेलदारी में कभी काम मिलता था तो कभी नहीं मिलता था। कुछ महिलाओं के पति अभी भी मण्डी में बेलदारी का काम करते हैं। कीरों की ढाणी कच्ची बस्ती की आजीविका पूरी तरह से मुहाना मण्डी पर निर्भर है।

बस्ती में स्कूल नहीं, 3 शराब ठेके हैं

कीरों की ढाणी कच्ची बस्ती की महिलाओं की स्थिति बहुत दयनीय है। परिवार पूरी तरह इन्हीं पर आश्रित हैं। मण्डी में काम करके वापस आकर घर आकर खाना बनाती हैं व घर के अन्य काम करती हैं। इस बस्ती में शिक्षा के नाम पर एक भी सरकारी स्कूल नहीं है जबकि 3 दारु के ठेके हैं। कुछ बच्चे सांगानेर के एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ने जाते हैं। जबकि अधिकतर बच्चे शिक्षा से वंचित हैं! बस्ती में चिकित्सा की कोई सुविधा नहीं है। लोगों को इलाज करवाने के लिए सांगानेर जाना पड़ता है! पीने का पानी तक इनको नहीं मिलता है।

2900 घरों के बीच सिर्फ एक ही आंगनबाड़ी केन्द्र है। लोगों के पास राशन कार्ड नहीं हैं। जिनके पास राशन कार्ड हैं उन्हें भी राशन की दुकान है। महिलाओं ने बताया कि राशन डीलर उन्हें पूरा राशन नहीं देता है। 3 लीटर केरोसिन की जगह 1 या 2 लीटर ही देता है। इन महिलाओं के पहचान पत्र तक नहीं हैं, बहुत सारी सरकारी योजनाएं तो यहां तक पहुंच ही नहीं पाई है।

– Shweta Tripathi (Aajeevika Bureau)

This entry was posted in Listening to Grasshoppers. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s