Monthly Archives: March 2013

ये रिश्ता क्या कहलाता है…

तुलसीराम अपने कुछ साथियों के साथ जब श्रमिक केन्द्र के स्टाल पर पंहुचा तो बहुत संभल कर बात कर रहा था। उसे प्रवासी श्रमिक कार्ड का फार्म भरवाने से पहले कई बार समझाना पडा। वह चाह कर भी सबसे पहले … Continue reading

Posted in Listening to Grasshoppers | 1 Comment

कब आएगा गोपाल बाग

छः छोटे छोटे बच्चों का पिता, पत्नी और बुढ़े मां बाप का ईकलौता कमाउ गोपाल बाग पिछले सात महीनों से गायब है। वो दादन में गया है। यहां दादन का अर्थ है, एडवांस लेकर गया एक श्रमिक, जो कि प्री-पेड़ … Continue reading

Posted in Migration Musings | 2 Comments

मजूर सहायता – लेबरलाइन*

केलवाडा -उदयपुर के बीच में चलने वाली बस में जब में बरवाडा से चढ़ा तो बैठते ही मेरी नजर सामने लगे लेबरलाइन के स्टिकर पर पड़ी जिस पर लिखा था लेबरलाइन 0294 2451124 मुसीबत में फंसे मजदूरों के लिए फोन … Continue reading

Posted in Listening to Grasshoppers | 2 Comments